Follow by Email

Followers

Thursday, 19 April 2018

मैं न तो कांग्रेस, न ही बीजेपी का यार हूं... बस एक पत्रकार हूं!


मैंने पिछले हफ्ते फेसबुक पर रेप को लेकर एक पोस्ट लिखा था जिसे देख कर मेरे कुछ साथियों का फोन आया क्योंकि मामला रेप का था तो खुल कर पोस्ट पर विरोध नहीं कर सकते थे हालांकि एक न समझ ने उस पर भी कमेंट कर ही दिया पर कुछ दोस्तों का फोन आया और कहने लगे कि आप हमेशा बीजेपी के खिलाफ लिखते हैं, आप कैसे पत्रकार हैं? क्या सिर्फ बीजेपी ही गलत करती है. मैंने कहा, बॉस अभी बीजेपी की सरकार है तो हम बीजेपी से ही कहेंगे कांग्रेस या आप से कह कर क्या होगा. जब कांग्रेस की सरकार थी तो मैं कांग्रेस के खिलाफ ही लिखता था. तब तो आप ये शिकायत नहीं करते थे. यकिन न आए तो उस समय का मेरा फेसबुक पेज देख लीजिए.

वैसे आपको बुरा क्या लगा, तो उन्होंने कहा आपने रेप के लिए सीधे बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया है क्या मोदी-शाह या योगी जी फ़ोन करके लोगों को बलात्कार करने के लिए कह रहे हैं? क्या बीजेपी की सरकार से पहले बलात्कार नहीं होता था? बेटी-बचाओ के नारे को हो रहे बलात्कारों से नहीं जोड़ा जाना चाहिए.

मैंने कहा- बॉस आप सब सही कह रहे हैं इस सब के लिए न मोदी-शाह और न योगी जी जिम्मेदार हैं और न ही कभी कांग्रेस जिम्मेदार थी लेकिन आप कांग्रेस सरकार के समय मोदी-शाह और योगी जी का बयान सुनिए आपको लगेगा कि सिर्फ कांग्रेस ही रेप के लिए जिम्मेदार हुआ करती थी और कांग्रेस सरकार चली जाएगी तो मोदी जी जादू की छड़ी घुमाकर समाज के इन कुरीतियों को समाप्त कर देंगे और इस तरह के कई नरे भी दिए गए थे लेकिन हुआ क्या? कुछ तो नहीं बदला. मैं किसी पार्टी का समर्थन नहीं कर रहा हूं, मैं ये नहीं कह रहा कि कांग्रेस सही कर रही थी और बीजेपी गलत कर रही है. कांग्रेस गलत थी इसलिए आज वो सत्ता से बहर है. मैं बस इतना कह रहा हूं कि हमने मोदी जी को क्यों चुना था क्योंकि हम तंग आ चुके थे पिछली सरकार और उसके व्यवहार से. हमने एक बेहतर कल की उम्मीद में उनको चुना. उन्होंने भी बहुत सारे सपने दिखाए और हम तो मुर्ख हैं ही, उन सपनों पर भरोसा कर उनको चुन लाए. अब वो उन्हीं दिखाए सपनों को एक-एक कर चूर-चूर कर रहे हैं और हां, आपने कहां रेप की घटनाओं को 'बेटी-बचाओ' नारे से न जोड़ें, क्यों न जोड़ें इस नारे को बलात्कार से? आप बलात्कारियों को बचाइए, उनके ख़िलाफ़ FIR तक नहीं दर्ज़ करवाइये. लड़की को चरित्रहीन साबित कीजिये. आपकी पार्टी का एक नेता ये कहे कि, "तीन बच्चों की मां के साथ कोई रेप करता है क्या?" आप उसे सस्पेंड तक नहीं करिए और हम आपकी मंशा पर सवाल न उठाएं?

दरअसल ये सब दिमाग से दिवालिया हो चुके पढ़े-लिखे अंध-भक्त हैं. मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि आज आप जिस भीड़ के समर्थन में खड़े हैं यक़ीन मानिए एक दिन इसी भीड़ का शिकार आप भी होंगे. इंतज़ार कीजिए. ये राजनीतिक पार्टियां आपको बचाने नहीं आएगी. इनको सिर्फ अपने वोट-बैंक से मतलब है. आज ये हिन्दू-कार्ड खेल रही है, वक़्त आने पर इन्हीं हिन्दुओं का सर कलम करवाने से भी नहीं चुकेगी. वक़्त है आंख और दिमाग खोलकर चलने का. हम सब एक हैं. कृपया देश को हिंदू-मुस्लिम में न बांटे और न बांटने दें आप बीजेपी सरकार के समर्थक है, समर्थन करें लेकिन जो गलत है उसके खिलाफ आवाज उठाए. क्योंकि आप किसी का एक अच्छा समर्थक तभी बन सकते हैं जब उसके खामियों को उजागर करें. चलते-चलते यही कहूँगा:-

हम तो आईना है दाग दिखाएंगे चेहरे के,
जिसे बुरा लगे वो सामने से हट जाए...!