Follow by Email

Followers

Saturday, 14 October 2017

पीएम मोदी के गुजरात में यूपी के सीएम योगी के होने के मायने


बीजेपी के पोस्टर बॉय यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ गुजरात दौरे पर हैं। गुजरात गौरव दौरे के दौरान योगी स्टार प्रचारक के रुप में दिखेंगे। अपने दो दिनों के दौरे पर योगी गुजरात के वलसाड, सूरत, कच्छ और भुज में 25 से 30 जनसभाएं करेंगे। जिसके जरिए वो हिंदू वोटरों को लूभाने की कोशिश करेंगे। वैसे तो मोदी और अमित शाह का गृह राज्य होने के कारण ये दोनों गुजरात में प्रचार के लिए काफी हैं। लेकिन इस बार बीजेपी को योगी को प्रचार में उतारना पर रहा है तो इसकी सबसे बड़ी वजह ये है कि करीब 22 साल बाद बीजेपी को पहली बार गुजरात में कड़ी चुनौती मिल रही है। एक तो पार्टी को इस बार सीएम उम्मीदवार के तौर पर नरेंद्र मोदी जैसा कोई दमदार चेहरा नहीं है। दूसरा पाटीदार आंदोलन और दलित उत्पीड़न के मुद्दे पर पार्टी बचाव के मुद्रा में है। वहीं जीएसटी के बाद छोटे कारोबारी भी परेशान हैं और कांग्रेस को इस बात का अंदाजा है। यही वजह है कि उसने भी पूरी ताकत छोक दी है। राहुल गांधी खुद इस महीने दो बार गुजरात का दौरा कर चुके है। गुजरात में करीब 89 फीसदी हिन्दू वोटर है। बड़े पैमाने पर पूर्वांचली और उत्तर भारतीयों की आबादी है। ऐसे में बीजेपी को उम्मीद है कि योगी के दौरे से उसके पक्ष में माहौल बनेगा।

दरअसल पीएम मोदी के गृह राज्य होने के साथ-साथ गुजरात एकलौता राज्य है जहां बीजेपी करीब 22 सालों से लगातार शासन कर रही है। अगर यहा उसका प्रदर्शन खराब रहा है तो उसका असर पूरे देश में पड़ सकता है। यही वजह है कि बीजेपी किसी तरह का जोखीम लेने के मूड में नहीं है और जीत के लिए पूरी ताकत झोंक रही है।

स्टार्टअप इंडिया: बदनाम पान पैलेस

अगर आप कभी बिहार पहुंचे और बिहार में मधुबनी जिला तो मधुबनी से 8 किलोमीटर की दुरी पर एक गांव बलिया है यहां के दुर्गा भवन के प्रांगण में एक 'बदनाम पान पैलेस' है वहां जरूर पहुंचे। यकीन मानिए आप यहां के पान खा के बनारसी पान भुल जाएंगे। साथ ही आप 'द कपिल शर्मा शो' भी देखना भुल जाएंगे क्योंकि यहां आपको पान के साथ-साथ कॉमेडी का भी भरपूर डोज मिलेगा। यही नहीं यहां आपको जिंदगी के कई बेहतरीन सलाह भी मिलेंगे जैसे तंबाकू सेहत के लिए हानिकारक है, गुटखा से कैसे पान बेहतर है। ऐसे कई सलाह आपको मिलेंगे।

हां लेकिन आप यहां तभी आए जब आपके पास एक पान खाने के लिए आधे-एक घंटे का समय हो। क्योंकि यहां एक पान लगाने में कम से कम आधे घंटे का समय लगता है लेकिन इस दौरान आप बोर नहीं होंगे। वैसे तो मैं पान नहीं खाता पर हर रोज अगर एक बार बदनाम पान पैलेस नहीं पहुंचा तो दिन पूरा नहीं होता और करीब यही हाल इस गांव के हर युवा का है। 'पंकज संन्यासी' उर्फ 'मास्टरमाइंड' का यह पान का दुकान बहुत पुराना तो नहीं है लेकिन आस-पास के गांव में मशहूर जरूर है और ये शायद दुनिया का इकलौता दुकान मिलेगा जिसमें आपको कोई दरवाजा नहीं मिलेगा। 'मास्टरमाइंड' का सपना है कि वो ऑनलाइन पान बेचे और इस पान को पूरे भारत में मशहूर करें। ताकि लोग कह सके खई के पान बलिया वाला
खैर अगर ये ऐसा कर पाए तो पीएम मोदी के 'स्टार्टअप इंडिया' का अच्छा उदाहरण होगा। 'मास्टरमाइंड' को उनके भविष्य और सपनों के लिए शुभकामनाएं!